ज्ञान और विज्ञान का समन्वय ही प्रशस्त करता है विकास का मार्ग – कच्छावा

राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में विश्वकर्मा जयन्ति समारोह पूर्वक आयोजित की गई। संस्थान के प्राचार्य ख्यालीराम सेवलिया की अध्यक्षता एवं अधिशाषी अभियंता इंजिनियर रामसिंह के मुख्य आतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित जनों को सम्बोधित करते हुए विशिष्ट अतिथि मरूदेश संस्थान के अध्यक्ष डॉ. घनश्यामनाथ कच्छावा ने कहा कि विश्वकर्मा जयन्ति पर हमें जीवन में पूर्ण लगन व निष्ठा के साथ कार्य करने का संकल्प लेना चाहिए।

ज्ञान और विज्ञान का समन्वय ही मनुष्य जाति के विकास का मार्ग प्रशस्त करता है। प्राचार्य ख्यालीराम सेवलिया ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा को विश्व निर्माता व देवताओं का वास्तुकार माना गया है। भगवान विश्वकर्मा निर्माण व सर्जन के देवता है तथा हमारी संस्कृति में इनका पूजन शुभ माना गया है। इस अवसर पर शास्त्री आविमं के प्रधानार्चा पवन पारीक, ओसवाल विद्यालय के प्रधानाचार्य सुकेश पचौरी, सामाजिक कार्यकर्ता अमरचन्द चौधरी ने भी विचार व्यक्त किये।

इस अवसर पर चम्मच दौड़, म्युजिकल चेयर, सुई-धागा आदि प्रतियोगिताऐं आयोजित की गई। छात्रा नीलम जांगीड़, नेहा व निकिता ने नृत्य की प्रस्तुति दी। हीना फुलवाडिय़ा, रामस्वरूप, पूर्णाराम, हेमन्त कुमार ने भाषण की प्रस्तुति दी। अनुदेशक सांवरमल प्रजापत ने आभार व्यक्त किया। संचालन कवि हरिराम गोपालपुरा ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here