भावना के भुखे हैं भगवान – भरत शरण

SHARE

Gadhodia guesthouse

कस्बे के गाड़ोदिया गेस्ट हाऊस के पास स्थित नोहरे में व्यासपीठ पर विराजमान बाल संत भागवताचार्य भरत शरण जी महाराज ने कथा के दूसरे दिन शनिवार को राजा परीक्षित को शाप लगने के पश्चात सुकदेव मुनि के पास जाने और भागवत श्रवण कराने के लिए आग्रह करने तथा सुकदेव मुनि द्वारा आग्रह को स्वीकार कर कथा सुनाने के साथ भगवान कपिल मुनि, वराह अवतार, धु्रव चरित्र के प्रसंगों का अमृतपान करवाते हुए कहा कि कलियुग में भवसागर पार करने के लिए भगवान का नाम मात्र ही काफी है।

कलयुग में भगवान का कीर्तन करने मात्र से ही मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। उन्होने कहा कि भगवान भावना के भुखे हैं। उन्हे सच्चे मन से व शुद्ध भाव से याद करें तो भगवान अपने भक्तों के लिए हर समय तत्पर मिलते हैं। इससे पूर्व शुक्रवार सुबह संकट मोचन हनुमान मन्दिर से शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा कृष्ण राधा, गणेश जी सहित अनेक मनमोहक झांकियां सजाई गई। शोभायात्रा में अनेक महिलायें सिर पर कलश धारण कर हरिकीर्तन करते हुए चल रही थी।

किशनलाल व सन्तोष कुमार बगडिय़ा ने सपत्निक भागवत जी को सिर पर धारण कर शोभायात्रा के दौरान आगे चल रहे थे। नगर के प्रमुख मार्गों से गुजरती हुई यात्रा कथा स्थल पर पंहूची। शोभायात्रा का जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। शोभायात्रा एवं कथा को सफल बनाने के लिए विश्वनाथ बगडिय़ा, रविप्रकाश बगडिय़ा, ओमप्रकाश बगडिय़ा, सुभाषचन्द्र बगडिय़ा, महावीर बगडिय़ा, माणकचन्द सराफ, मधुसूदन अग्रवाल, शंकरलाल अग्रवाल, सूर्यप्रकाश मावतवाल सहित अनेक धर्मप्रेमी जुटे हुए हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY