दोहरे हत्याकाण्ड में आजीवन कारावास

SHARE

Jail

क्षेत्र के साण्डवा थानान्र्तगत ग्राम मुंदड़ा की रोही में 6 साल पहले हुए दोहरे हत्याकाण्ड मामले में एडीजे नेपालसिंह ने आरोपी श्यामलाल को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार 20 सितम्बर 2007 को ओमदास पुत्र भंवरदास स्वामी निवासी ढ़ाणी रोही मून्दड़ा ने साण्डवा थाने में लिखित रिपोर्ट दर्ज करवाई कि उसके लड़के अर्जुनदास उम्र 21 वर्ष तथा धन्नादास उम्र 15 वर्ष रात में खेत में भेड़ बकरियां चराते व रहते हैं। सुबह साढ़े नौ बजे जब वह अपने पुत्र रघुवीर के साथ खेत में गया तो खेत में बनी झोंपड़ी के पास उसके दोनो पुत्र अर्जुनदास व धन्नादास मृत पड़े थे तथा उनके शरीर व सिर पर चोटें लगी हुई थी।

ओमदास ने रिपोर्ट में अपने भाई लिखमदास के लड़के श्यामलाल तथा उसके मामा बद्रीदास के निवासी धर्मास जमीनी विवाद के चलते उसके पुत्रों की हत्या करने का आरोप लगाया। जिस पर पुलिस ने जांच करने के बाद श्यामलाल के विरूद्ध आरोप पत्र पेश किया। मामले में अभियोजन पक्ष ने न्यायालय में 21 गवाहों को पेश किया। सभी गवाहों के बयानों एवं विद्वान अधिवक्ताओं की बहस के बाद अपर जिला न्यायिक मजिस्ट्रैट नेपालसिंह ने आरोपी को भादंस की धारा 302 का दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास तथा पांच हजार रूपये के जुर्माने की सजा सुनाई। अदम अदायगी (जुर्माना जमा) नहीं करने पर एक महीने के अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई।

न्यायाधीश ने आरोपी को भादंस की धारा 447 (दूसरे की जमीन पर कब्जा करने का) में दोषी मानते हुए तीन माह के कारावास तथा 500 रूपये के अर्थ दण्ड से दण्डित किया। अदम अदायगी नहीं करने पर सात दिन के अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई। मामले में गिरफ्तार होने के बाद चार साल जेल में रहने के बाद विगत डेढ़ साल से आरोपी श्यामलाल जमानत पर चल रहा था। जिसे सजा सुनाने के बाद पुलिस ने हिरासत में ले लिया तथा उसका जेसी वारन्ट बनाकर आरोपी को सजा काटने के लिए जेल भेज दिया गया। मामले की पैरवी अपर लोक अभियोजक सूरजमल यादव ने की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here