एक महिला, दो ब्लड ग्रुप

SHARE

blood

एक गर्भवती महिला के दो ब्लड ग्रुप होने का चमत्कार कस्बे के बगडिय़ा चिकित्सालय में हो सकता है। जी हां ऐसे ही चमत्कार के एक मामले की शिकायत पीडि़ता के ससुर ने पीएमओ को की है। शहर के सब्जी मण्डी पास के निवासी महबूब अली पुत्र दीन मोहम्मद छींपा ने राजकीय बगडिय़ा चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र लिखकर मामले की जांच कर दोषी के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है। पत्र में महबूब अली ने लिखा है कि उसकी गर्भवती पुत्रवधु यास्मीन की 13 जुन 2013 को राजकीय चिकित्सालय में ब्लड जांच करवाई थी।

जिसकी जांच पर्ची संख्या 4558 में ब्लड ग्रुप बी नेगेटिव बताया गया था। 12 दिसम्बर 2013 को वापस ब्लड ग्रुप की जांच करवाई थी। जिसकी जांच पर्ची संख्या 17748 में ब्लड ग्रुप बी पॉजेटिव बताया गया है। छींपा ने पत्र में पूछा है कि आखिर उसकी पुत्रवधु का सही ब्लड ग्रुप कौनसा है। पत्र में विशेषज्ञ से जांच करवाकर दोषी के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग करते हुए इसकी पुनरावर्ती रोकने की मांग की गई है। पत्र में भविष्य में गलती नहीं हो इसके लिए विशेषज्ञ से जांच करवाकर ही जांच रिपोर्ट जारी करने की मंाग भी की गई है।

सनद रहे कि चिकित्सालय की लैब में काम करने वाले अधिकतर लैब टैक्नीशियन प्रशिक्षित नहीं है तथा एक एनजीओ के माध्यम से अपनी सेवायें दे रहे हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. चैनरूप सेठिया ने बताया कि डा. मैनपालसिंह के नेतृत्व में जांच टीम गठित की है। जो जांच कर दोषी के खिलाफ कार्यवाही करेगी तथा भविष्य में इसकी पुनरावर्ती नहीं हो इसके लिए भी ठोस कदम उठाये जायेंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY