अध्यापकों की कमी को लेकर जाजोदिया विद्यालय के छात्रों ने लगाये ताले

SHARE

Jajodia-school

अध्यापकों की कमी के चलते कस्बे के राजकीय रघुनाथ राय जाजोदिया उच्च माध्यमिक विद्यालय में विद्यार्थियों ने तालाबंदी कर दी। छात्रों ने विद्यालय के मुख्य प्रवेश द्वार के साथ प्रधानाचार्य के कार्यालय सहित प्रशासनिक विभाग के दोनो तरफ के दरवाजों पर ताले लगाकर अध्यापकों को विद्यालय परिसर में रखी बेंचों पर बैठने को मजबूर कर दिया। तालाबन्दी करने के बाद विद्यालय के सामने छात्रों ने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

आसीफ छींपा, जावेद लीलगर, महेश स्वामी, रोशन धोबी, नदीम चौहान, आमीन घोसी, राजकु मार सिद्ध, चन्द्रप्रकाश स्वामी, गौतम, आमीन खान सहित अनेक विद्यार्थियों ने बताया कि विज्ञान वर्ग में पिछले चार साल से गणित, विगत दो माह से भौतिक विज्ञान, हिन्दी, अंग्रेजी तथा कला वर्ग में इतिहास के अलावा किसी भी विषय का अध्यापक नहीं होने से उनकी पढ़ाई प्रभावित हो रही है। प्रधानाचार्य को दो माह पहले भी अध्यापक की पूर्ति करने के लिए लिखा था। परन्तु अभी तक एक भी अध्यापक को यहां पर नहीं लगाया गया है। छात्रों का आरोप है कि इस वर्ष जिला स्तरीय खेल प्रतियोगिता में भी विद्यालय की टीम नहीं भेजी गई तथा विद्यालय में खेल सामग्री उपलब्ध होने के बाद भी हमें खेलने के लिए नहीं दी जा रही है। छात्रों ने बताया कि विद्यालय में पेयजल की व्यवस्था नहीं है। छात्रों ने बताया कि आठवीं कक्षा की कलाशें पूरे समय नहीं लगती है।

कार्यवाहक प्रधानाचार्या कुसुम शर्मा ने बताया कि विद्यालय में स्वीकृत 47 में से 22 पद रिक्त हैं। रिक्त पदों को लेकर इस वर्ष करीब 225 छात्र टी.सी. लेकर दूसरे विद्यालयों में अध्ययन के लिए चले गये हैं। नरेन्द्र भाटी ने बताया कि विद्यालय में शारीरिक शिक्षक का पद पिछले 10 वर्षों से खाली है। संस्था प्रधान सोहनलाल महरिया ने फोन पर बताया कि उच्चाधिकारियों को दो बार लिखित में तथा एक बार वाकपीठ में अवगत करवा दिया था। महरिया ने बताया कि जिला स्तरीय प्रतियोगिता में जाने के लिए एक भी अध्यापक तैयार नहीं था, इसलिये छात्रों को कहा गया था आप किसी अध्यापक को साथ जाने के लिए तैयार कर लें। महरिया ने बताया कि वे स्वयं आरटीई के तहत निजी विद्यालयों का निरीक्षण करने के लिए गये हुए थे। किसी समय विज्ञान वर्ग में पूरे राजस्थान में कस्बे का नाम रोशन करने वाला जाजोदिया विद्यालय अपने पुराने गौरव को हासिल करने के लिए अध्यापकों की बाट देख रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here