पुलिस पर पत्थरबाजी कर पुलिस की जीप के शीशे तोड़े

SHARE

Student-union-elections

छात्र संघ चुनावों को लेकर हुए आपसी झगड़े को लेकर सुजानगढ़ व सालासर में हुई गोलीबारी में एक व्यक्ति घायल हो गया तथा पुलिस की गाड़ी की शीशे और बोनट को तोड़ दिया गया। दोनो पुलिस थानों में चार मुकदमें दर्ज किये गये हैं। सालासर पुलिस के अनुसार महेश पुत्र सुरजाराम जाट निवासी स्यानण ने रिपोर्ट दी कि महावीर जाखड़ से उसकी पुरानी अनबन चल रही थी। उसी को लेकर राजाराम पुत्र हणुताराम गुलेरिया निवासी सालासर, महावीर जाखड़ लोढ़सर, डूंगरमल खोखर लोढ़सर, सुरेन्द्र झूरिया खारिया छोटा, राजू गोदारा व नरेन्द्र गैणा निवासीगण सुजानगढ़ ने सीकर रोड़ स्थित प्रेम होटल के बाहर रात पौने बारह बजे जान से मारने की नियत से तीन फायर किये।

जिसमें राह चलते भंवरलाल निवासी चावली गाल में गोली लगने से घायल हो गया। जिसे प्राथमिक उपचार के बाद उसकी गम्भीरावस्था को देखते हुए रैफर कर दिया। पुलिस ने सूचना मिलते मौके पर पंहूची तथा नाका बंदी करवाई, लेकिन आरोपी फरार हो गये। इसी प्रकार सुजानगढ़ सीआई प्रहलाद राय ने मुकदमा दर्ज करवाया है कि तीज के मेले के बाद वे जाप्ते के साथ गश्त पर निकले थे। गश्त के दौरान दाधीच सेवा समिति पंहूचे तो वहां पर लिछु बिजारिणयां व बनवारी गुरू ने लड़कों को उकसाते हुए हल्ला मचाया कि हमारे कार्यालय पर फायर हो गये और पुलिस अब पंहूची है। इस पर लिछु बिजारणियां व बनवारी गुरू के नेतृत्व में 15-20 लड़कों ने पुलिस की गाड़ी पर पत्थर फेंकने शुरू कर दिये। उन्हे समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने तथा पत्थरबाजी करते रहे, जिससे पुलिस की जीप का शीशा और बोनट टूट गया। इसके बाद भी समझाने पर नहीं मानने और पत्थर बाजी बंद नहीं करने पर सीआई बीच बचाव कर भीड़ से निकलने लगे। जिस पर बनवारी गुरू व लिछु बिजारणियां के नेतृत्व में 15-20 जनों ने जीप रोक कर पत्थरबाजी कर सरकारी सम्पति को नुकसान पंहूचाया तथा राजकार्य में बाधा पंहूचाई।

इसी प्रकार श्यामसुन्दर पुत्र दानाराम जाट निवासी लैड़ी जिला नागौर ने रिपोर्ट दी कि उसका पुत्र रोहित सुजला महाविद्यालय के छात्र संघ चुनाव में अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहा है। इसी बात को लेकर महेन्द्र गोदारा, महावीर गोदारा, राजू गोदारा, सुरेन्द्र, विक्रम, महावीर जाखड़, राजू गुलेरिया, विमल गोदारा, कुलदीप सारण, महावीर बीरड़ा व दो तीन अन्य दाधीच समिति आये। जहां पर महावीर गोदारा व महेन्द्र गोदारा ने दुनाली बन्दूकों से अभाविप कार्यकर्ताओं में दहशत फैलाने व मारने की नियत से चार-पांच राउण्ड फायर किये। विमल गोदारा व महावीर जाखड़ के हाथ में माऊजर थी, कुलदीप सारण, महेन्द्र बीरड़ा माऊजर लहराते हुए नीचे उतरे और बोले कि गाडिय़ों के शीशे तोड़ो, मारो तथा धमकी दी कि कल कॉलेज आओगे तो सभी को मारेंगे। इसी प्रकार विजयराम पुत्र सत्यनारायण मोची निवासी सुजानगढ़ ने रिपोर्ट दी कि वह सौरभ पीपलवा के साथ हनुमान गेस्ट हाऊस के सामने से अपने घर जा रहा था। जहां पर महेन्द्र पुत्र पुसाराम गोदारा व विमल पुत्र हनुमानमल गोदारा मेरे व सौरभ के आडे फिर गये। महेन्द्र ने अपनी पिस्तौल निकालकर मेरी कनपटी पर रख दी। पीछे से पुलिस की गाड़ी आने पर पिस्तौल को अपने पास छिपा ली तथा जातिसूचक गालियां निकालते हुए कहा कि इस रास्ते से कैसे आये, तुम्हे पता नहीं ये हमारा कार्यालय है। विजय ने अपनी शर्ट फाडऩे और उसकी जेब से पांच सौ रूपये व सौरभ की सोने की अंगुठी निकालने का विमल गोदारा पर आरोप लगाया है। पुलिस ने सभी मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY