आखिर कैसे हो पढ़ाई जब 45 स्वीकृत पदों में से हो 23 रिक्त

SHARE

Cycle-distribution-scheme

स्थानीय राजकीय कनोई उच्च माध्यमिक विद्यालय में पूर्व पार्षद निर्मला तोदी के मुख्य आतिथ्य एवं युवा साहित्यकार व अधिवक्ता घनश्यामनाथ कच्छावा की अध्यक्षता में 280 छात्राओं को साइकिल के लिए पच्चीस सौ रूपये के चैक वितरित किये गये। राज्य सरकार की छात्राओं को साइकिल वितरण योजना के तहत आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित छात्राओं को सम्बोधित करते हुए पूर्व पार्षद घनश्यामनाथ कच्छावा ने कहा कि सरकार ने महिला स्वालम्बन की दिशा में अनेक योजनाये चला रही है। कच्छावा ने छात्राओं से अपनी शिक्षा की ओर अधिकाधिक ध्यान देने का आह्वान करते हुए कहा कि एक शिक्षित लडक़ी दो परिवारों के रोशन करती है। पूर्व पार्षद निर्मला तोदी ने छात्राओं से सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाने का आह्वान किया। संस्था प्रधान अनिता सैनी ने बताया कि वर्ष 2012-13 की 158 व वर्ष 2013-14 की 122 छात्राओं को साइकिल के लिए 2500 रूपये के चैक प्रदान किये गये है। सैनी ने बताया कि विद्यालय में स्वीकृत कुल 45 पदों में से 23 पद रिक्त है। संस्था प्रधान ने कहा कि बेटियां किसी भी मामले में बेटों से कम नहीं है। इस अवसर पर सुमन कच्छावा, गीता पाण्डे, कमलेश ढ़ाका, कान्ता स्वामी, अम्बिका स्वामी सहित सभी अध्यापिकायें उपस्थित थी। कार्यक्रम का संचालन रीटा जैन ने किया।

रिक्त पदों से प्रभावित हो रही
उपखण्ड के सबसे बड़े बालिका विद्यालय में स्वीकृत कुल 45 पदों से 23 पदों के रिक्त होने को खामियाजा अध्ययनरत छात्राओं को भुगतना पड़ रहा है। विद्यालय में अध्ययनरत छात्रा पारूल सोनी, सोनिका गुर्जर, बेला डाबरिया, पूजा रैगर, गरिमा रैगर, डिम्पल सैन सहित अनेक छात्राओं ने विषयाध्यापकों की कमी होने से पढ़ाई के प्रभावित होने तथा विज्ञान व वाणिज्य संकाय में स्वीकृत सभी पदों के रिक्त होने के कारण छात्राओं को मजबूरन कला संकाय लेना पड़ रहा है। विद्यालय में तीन साल से वाणिज्य एवं पिछले साल से विज्ञान संकाय सरकार द्वारा शुरू किये गये हैं। लेकिन इन्हे पढ़ाने के लिए विषयाध्यापकों की यहां पर नियुक्ति नहीं होने के कारण मजूबरन छात्राओं ने अपने विषय बदल लिये।

Cycle-distribution-scheme1

वर्ष दर वर्ष कम हुई छात्राओं की संख्या
कनोई बालिका विद्यालय में अध्यापिकाओं की कमी के कारण प्रति वर्ष छात्राओं की संख्या में गिरावट आई है। स्वीकृत पदो में से आधे पदो के रिक्त होने के कारण परिजन अपनी बच्चियों को निजी विद्यालयों में पढ़ाने को मजबूर है। वर्ष 2010 से पहले विद्यालय में जहां करीब 1100 छात्रायें अध्ययनरत थी। वहीं अब मात्र 570 छात्रायें ही पढ़ रही है। संस्था प्रधान अनिता सैनी ने बताया कि वर्ष 2009-10 में 949, 10-11 में 838, 11-12 में 748, 12-13 में 715 व इस वर्ष 13-14 में मात्र 570 छात्रायें विद्यालय में पढ़ रही है।

ये पद हैं रिक्त
कनोई बालिका विद्यालय में प्रधानाचार्या सहित वाणिज्य संकाय में लेखा शास्त्र का एक, व्यवसाय प्रबन्ध का एक, कम्प्यूटर विज्ञान का एक, विज्ञान वर्ग में भौतिक विज्ञान का एक, रसायन विज्ञान का एक, गणित का एक, कला संकाय में अंग्रेजी के दो, राजनीति विज्ञान का एक, संस्कृत का एक, भूगोल का एक, उर्दू का एक, चित्रकला का एक, वरिष्ठ अध्यापक विज्ञान का एक, व. पु. अध्य. एक, तृतीय श्रेणी अध्यापकों के पांच, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी का एक पद रिक्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here