बलात्कार के बाद हत्या के मामले में हुआ मृतका का दोबारा पोस्टमार्टम

SHARE

rape2

गत 5 दिसम्बर को नागौर जिले की लाडनूं तहसील के गांव निम्बी जोधा स्थित निजी विद्यालय के हौद में सुजानगढ़ तहसील के मलसीसर गांव की बेटी सबूरी की लाश मिलने के बाद परिजनो की मांग पर शनिवार को मलसीसर में मेडीकल बोर्ड द्वारा दोबारा पोस्टमार्टम करवाया गया। लाडनूं उपखण्ड अधिकारी राजपालसिंह की देख-रेख में छापर के चिकित्सक डा. नीरज सक्सेना, बीदासर की डा. चन्द्रा शेखावत एवं सालासर के डा. महेन्द्र गंगावत ने मृतका सबूरी को पोस्टमार्टम किया।

इस दौरान मामले के जांच अधिकारी डीडवाना पुलिस उप अधीक्षक हेमाराम साहू, लाडनूं सीआई दरजाराम सहित लाडनूं थाने का जाप्ता मौजूद था तथा मामले की नाजुकता को देखते हुए हर स्थिति एवं परिस्थिति से निपटने के लिए सुजानगढ़ पुलिस उपाधीक्षक नितेश आर्य, सालासर थाने के एएसआई पृथ्वीसिंह, तहसीलदार मूलचन्द लुणियां सहित सालासर थाने एवं पुलिस उपाधीक्षक कार्यालय का जाप्त तैनात था। पोस्टमार्टम के दौरान पूर्व विधायक रामेश्वर भाटी, मेघवाल परिषद के जिला अध्यक्ष कानाराम कांटीवाल, पूर्व पार्षद रतनलाल नायक, मलसीसर सहकारी समिति के पूर्व अध्यक्ष खींवाराम खिलेरी, रामकुमार नायक, मृतका के पिता मुंशीराम नायक, दादा दूदाराम नायक, सरपंच भुराराम प्रजापत, भागीरथ प्रसाद नायक, धनराज आर्य, रमेश सारस्वा, रतनगढ़ के सन्तोष कुमार चारण, सन्तोष नायक, शिवचरण धातरी, भंवरलाल धातरी सहित मलसीसर एवं आस-पास के गांवों तथा निम्बी जोधा के अनेक ग्रामीण मौके पर उपस्थित थे।

rapeसनद रहे कि तहसील के गांव मलसीसर के मुंशीराम नायक की पुत्री सबूरी लाडनूं तहसील के गांव निम्बी जोधा में अपनी बुआ सन्तोष के साथ गत दो वर्षों से रह रही थी। सन्तोष व सबूरी निम्बी में एक निजी विद्यालय में अस्थाई तौर पर सफाई का कार्य करती थी। 5 दिसम्बर को सन्तोष सबूरी को स्कूल में सफाई करने के लिए कहकर किसी कार्यवश बाहर चली गई। 5 दिसम्बर को दोपहर करीब साढ़े तीन बजे सबूरी स्कूल गई तो वहां स्कूल मालिक सरोज कंवर पत्नि भगवानसिंह, नरेन्द्रसिंह, अशोक व दो-तीन अन्य व्यक्तियों ने उसके साथ गलत कार्य कर उसकी हत्या कर लाश को स्कूल के हौद में डाल दी थी। यह आरोप मृतका के पिता मुंशीराम ने गत दिनों डीडवाना के अतिरिक्त जिला कलेक्टर को प्रेषित ज्ञापन में लगाये हैं। ज्ञात रहे कि मृतका के दोबारा पोस्टमार्टम की मांग को लेकर सुजानगढ़, रतनगढ़ में रैली निकालकर ज्ञापन सौंपे गये तथा प्रशासन पर दबाव बनाया गया, तब जाकर हत्या के 25 दिन बाद प्रशासन ने मृतका का दोबारा पोस्टमार्टम करवाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here