भजन संध्या में उमड़े श्रोता

SHARE

स्थानीय यंग्स क्लब के माणक जयन्ति समारोह का शुभारम्भ शुक्रवार रात्री को जैनाचार्य दिव्यानन्द विजय जी महाराज निराले बाबा एवं स्वामी कानपुरी जी महाराज के सानिध्य में स्व. प्रतापसिंह सिंघी की पुण्य स्मृति में उनकी धर्मपत्नि कमला सिंघी के सौजन्य से आयोजित भजन संध्या से हुआ। नगरपालिका अध्यक्ष डा. विजयराज शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि जसकरण भुतोडिय़ा एवं कन्हैयालाल डूंगरवाल थे। मां सरस्वती एवं स्व. प्रतापसिंह सिंघी की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलन से आरम्भ हुई भजन संध्या का आगाज गायक कलाकर अली ने गणेश वंदना से किया। प्रख्यातगायक अली ने म्हारा सांवरिया थारी बातां …….. , मै तो रमता जोगी राम …….. , सांवरियो जादू करग्यो…….. , बोल सुवा राम-राम…….. , छेड़ो मु्ररलिया प्रेम की…….. , भजना स्यूं लागै मीरां मीठी…….. , आदि अनेक सुमधुर भजनों की प्रस्तुतियों से श्रोताओं से भरपूर तालियां बटोरी। अली ने केसरिया बालम…….. , हो जी ओ दीवाना सहित शोला मैं जल बुझा हुं की स्वर लहरियों से संगीत रसिकों को भाव विभोर कर दिया। कार्यक्रम में कलाकार अमजद ने सुफियाना अंदाज में ख्वाजा मेरे ख्वाजा …….. , नैणों में कैसा जादू …….. तथा दमादम मस्त कलंदर की प्रस्तुतियों से भरपूर दाद पाई। माणक जयन्ति के अवसर पर सजी इस सुरीली सांझ में वायलीन पर चन्द्रप्रकाश, बैंजो पर इलियास, तबला पर परमेश्वर कत्थक तथा ढ़ोलक पर जेठाराम ने संगत की। क्लब अध्यक्ष निर्मल भुतोडिय़ा ने क्लब की 40 वर्ष की यात्रा एवं उपलब्धियों पर प्रकाश डाला एवम् सांस्कृतिक सचिव गिरधर शर्मा ने आयोजकीय पृष्ठ भुमि पर प्रकाश डालते हुए कलाकारों का परिचय दिया। क्लब सदस्य विमल भुतोडिय़ा ने कलाकारों का शॉल ओढ़ाकर तथा गोपाल चोटिया, हाजी मोहम्मद, मुन्नालाल प्रजापत, मंगतुलाल मोर, सन्तोष बेडिय़ा, अयूब खां, देवेन्द्र कुण्डलिया, माणक रामपुरिया ने अतिथियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here