कुदरत के कहर से एक दम्पति की मौत

SHARE

शुक्रवार सुबह शुरू हुई बारिश का कहर उपखण्ड क्षेत्र के कई गांवो में बरपाया है। कुदरत के कहर से एक दम्पति की मौत हो गई जबकि तीन जने गंभीर रूप से घायल हो गये व दर्जनो मकान व दिवारे ढह गई। शुक्रवार सुबह तीन बजे शुरू हुई बारिश का कहर ग्राम शोभासर, लोढसर, भीमसर, खदाया, खोडा, चारियां, खुड़ी, जीनरासर, मालासी, गेडाप, गोन्दूसर, करेजड़ा, सालासर सहित अनेक गांवो जल मग्र हो गये। शोभासर गांव में एक मकान ढहने से मकान में सो रहे परताराम पुत्र पुसाराम आचार्य (65) व उसकी पत्नी सुन्दरदेवी (60) की मौके पर ही मृत्यु हो गई। इस आशय को लेकर मृत्तकों के परिजन हरलाल पुत्र बीरबलराम आचार्य ने सालासर थाने में इस आशय का मामला दर्ज करवाया। ग्राम शोभासर में चहूंओर पानी भर गया।

इसी प्रकार ग्राम लोढसर में एक दर्जन मकान व दिवारे ढह गई। ग्राम लोढसर में ग्राम सेवा सहकारी समिति के अध्यक्ष हीरालाल गोदारा ने बताया कि समिति में रखी 200 कट्टे यूरिया खाद पानी में बह गये। इसी प्रकार राशन डिलर की दुकान में पानी घूसने से चीनी व गेहूं खराब हो गये। सरपंच प्रतिनिधि कन्हैयालाल शर्मा ने बताया कि राजूसिह का मकान ढहने से तीन जने गंभीर घायल हो गये। जिससे भवानीसिंह, विरेन्द्रसिंह व सुरेन्द्रसिंह घायल हो गये। घायल ग्रामीणों को गांव के लोगों ने सुजानगढ़ के राजकीय चिकित्सालय में भर्ती करवाया जहां से सुरेन्द्रसिंह की हालत गम्भीर होने के कारण उसे बीकानेर रैफर कर दिया गया। ग्राम लोढसर में चार-पांच फुट पानी गांव की गुवाड़ में भर गया तथा गांव चहूंओर पानी से लबालब हो गया। पंचायत समिति के विकास अधिकारी विक्रमसिह राठौड़ ने शुक्रवार को अतिवृष्टी से प्रभावित ग्राम लोढसर का जायजा लिया। क्षति ग्रस्त मकानो व पानी निकासी के पुख्ता प्रबंधो के हालात जाने। सरपंच के द्वारा 15 एचपी की मोटर लगाकर पानी निकासी के प्रबंध किये गये है। लेकिन कुदरत के सामने उक्त प्रबंध विफल होते देखे गये। अतिवृष्टी से प्रभावित लोगो को सरपंच द्वारा तीरपाल भी दिये गये है।

इसी प्रकार ग्राम भीमसर भी जलमग्र हो गया। मेघवाल बस्ती में घरो में पानी घूसने से लोगो को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। प्रशासन को सूचना मिलने पर कार्यवाहक उपखण्ड अधिकारी मूलचंद लूणिया ने ग्राम भीमसर में अतिवृष्टी से प्रभावित लोगो को पच्चास भोजन के पैकेट वितरित किये तथा पानी निकासी के लिए सरपंच को निर्देश दिए। ग्राम खदाया, खोडा में भी पानी भर गया। इसी प्रकार सुजानगढ शहर की भी हालत बरसात से खराब से नजर आई। जगह-जगह पानी भर गया व लोगो को घरो से निकलना मुश्किल हो गया। शहर के मुख्य बाजारो में दो तीन फुट पानी होने से आवागमन प्रभावित हुआ। वही भारी बरसात से क्षेत्र की अनेक सड़के क्षति ग्रस्त हो गई। हरिजन बस्ती, गांधी बस्ती, चापटिया तलाई, दुलिया बास, नलिया बास सहित अनेक बस्तियों में पानी भर गया। गैनाणी में लगी पानी निकासी की मोटरें जलने के चलते दिन भर बाजारों में पानी निकासी नहीं हो सकी। ईओ भगवानसिंह ने बताया कि पानी निकासी के लिए पुक्ता इन्तजाम किये गये है। जिसके तहत गैनाणी में 40 एचपी एक व 20 एचपी के एक पम्प सैट लगाये गये है। 30 एचपी का पम्प सैट मंगवाया गया है। चापटिया तलाई पर दो मोटरे लगाई गई है।

हरिजन बस्ती की स्थिति दयनीय बनी हुई है। पालिका द्वारा लगाया गया पम्प सैट नाकाफी साबित हो रहे है। फिर भी पालिका के ईओं ने दावा किया है कि दो पम्प सैट ओर लगाकर पानी निकासी के प्रबंध किए जा रहे है। गांधी बस्ती स्थित मांगीलाल पुत्र घीसाराम मेघवाल ने दूरभाष पर बताया कि अतिवृष्टी के कारण तीन मकान ढह गये। मकान ढहने की पुष्टी ईओं से करने पर किसी प्रकार सूचना नही मिलना बताया। शुक्रवार को गांधी बालिका, भराडिय़ा, भीमसरिया, नवीन माध्यमिक सहित कई स्कूलो के सामने पानी भरने के कारण शैक्षणिक कार्य प्रभावित रहा। इसी प्रकार ग्राम गोपालपुरा के उच्च माध्यमिक विद्यालय में कुछ कमरो में पानी टपकने व विद्यालय में पानी भरने के कारण पढाई बाधित रही। नवीन विद्यालय के प्रधानाध्यापक योगेश नाई ने बताया कि स्कूल के चारो ओर पानी भरने से शैक्षणिक व्यवस्था प्रभावित हुई है। नाई ने बताया कि भोजलाई चौराहे के पास मांगीलाल शर्मा का एक मकान ढह गया। कार्यवाहक उपखण्ड अधिकारी मूलचंद लूणिया ने बताया कि शुक्रवार सुबह दस बजे तक 44 एमएम बरसात दर्ज की गई है। इसी क्रम गांव चारिया के राजकुमार शर्मा ने बताया कि झमाझम बारिश से गांव के एक निजी विद्यालय के तीन कमरे ढह गये इसके अलावा चारिया व घोटड़ा गांव की सड़क पूर्णतया: क्षतिग्रस्त हो गई तथा गांव की गुवाड़ बरसाती पानी से दरिया बन गईं।

राहत सामग्री की वितरित
ग्राम खारिया बड़ा, नोरंगसर, भीमसर, खदाया, खोडा, खुड़ी, मालासी, बामणिया सहित एक दर्जन गांवो में दो हजार भोजन के पैकेट वितरित किये। हनुमान सेवा समिति सालासर के द्वारा अतिवृष्टी से प्रभावित गांवो में राहत सामग्री वितरित की गई। उपखण्ड अधिकारी मूलचंद लूणिया , रविशंकर पुजारी, यशोदानन्दन पुजारी, विजय कुमार पुजारी के द्वारा गांवो का जायजा लेते हुए अतिवृष्टी से प्रभावित लोगो को भोजन के पैकेट बांटे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here