प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के निर्माण व मरम्मत की पोल खुली

SHARE

तहसील के ग्राम पंचायत कानूता के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के निर्माण व मरम्मत एक माह में ही बरसात ने पोल खोल दी। उक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पिछले दिनो हुई बरसात के बाद छत से पानी टपकने लगा व छत का मलबा नीचे गिर गया। पुराने भवन की मरम्मत में भी दिवारो पर दरार आने से अस्पताल के कर्मचारी व रोगी भयभित है। प्रधान नानीदेवी गोदारा , ग्राम पंचायत की सरपंच श्रीमति सपना चौधरी , अस्पताल के चिकित्सक पुनमचंद ने प्रशासन को लिखित शिकायत कर स्थिति की जानकारी दी। अस्पताल के प्रभारी डॉ. पूनमचंद बाना ने बताया कि करीबन 28 लाख की स्वीकृत राशि से अप्रेल 2011 में ठेकेदार ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के मरम्मत व नए भवन निर्माण का कार्य शुरू किया गया व हाल ही में 23 जुलाई 2012 को ठेकेदार ने निर्माण पूरा कर विभाग को भवन सौंप था। इस संबंध में जनप्रतिनिधि व विभाग द्वारा घटिया निर्माण की बार बार शिकायत करने व भवन से मरीजों सहित स्वास्थ्य अधिकारियों व कार्मिकों के खतरा होने के बाद भी कोई कदम नहीं उठाया गया है। उन्होंने बताया कि हाल ही में चार नए कमरे व टायलेट बनाए गए हैं। व पुराने भवन की मरम्मत की गई।

परंतु जब से बरसात का मौसम शुरू हुआ है, तब से पूरे भवन की छतें टपक रही हैं। उन्होंने बताया कि करीबन 18 लाख की लागत से स्टॉफ कवार्टर बनाए गए थे। मगर कमोबेश उनका भी यही हाल है। उन्होंने बताया कि इसके चलते केन्द्र में कार्यरत आयुष चिकित्सक डॉ. कमलेश, एएनएम उर्मिला चौधरी,जीएनएम निर्मला व कम्पाउंडर अनिल कुमार को दूसर स्थान पर जाना पड़ा। उन्होंने बताया कि चूरू व नागौर जिले के मध्य आस पास गांवों का एक मात्र प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र होंने के कारण यहां प्रत्येक माह करीबन 50 से 60 के बीच प्रसव होते हैं। प्रतिदिन बाहर से आने वाले रोगियों की संख्या भी 50 से उपर रहती है।

इनका कहना:-
प्राथमिक स्वास्थ्य के न्द्र का भवन दस साल पुराना है तथा जो नया भवन बनाया गया है जिसकी छत नही डाली गई है। काम अभी भी अधूरा है बताया जा रहा है। भवन में दरार आने व छत टपकने की शिकायत मिली है जिसकी जांच करवाई जायेगी। पुराने भवन के लोहे केे सरिये व आरसीसी काफी वर्ष पूराने होने के कारण पानी टपक सकता है ओर दरार भी आ सकती है। फिर भी मौक ा देखने व जांच करवाने पर ही वास्तवितका का पता चलेगा।
डॉ. महेश वर्मा, ब्लॉक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सुजानगढ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY