निराले बाबा ने कहा कि इस दुनिया में परमात्मा को भी गुरू की शरण जाना पड़ता है

SHARE

जैनाचार्य दिव्यानंद विजय महाराज ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास जी ने हनुमान चालीसा की रचना करने से पूर्व गुरू के चरणो को प्रणाम किया था उन्होने समझा कि प्रभू से भी पहले गुरू की आवश्यकता है। वे रविवार को सिंघी जैन मंदिर आयोजित बालाजी भक्ति ज्ञान वर्षा कार्यक्रम में उपस्थित भक्तो को सम्बोधित कर रहे थे। निराले बाबा ने कहा कि इस दुनिया में परमात्मा को भी गुरू की शरण जाना पड़ता है तो जैन धर्म में नमस्कार महामंत्र जिसमें कहा गया है कि नमो लोए सव्व सदूणं कि इस लोक में जितने भी संत है उन सबको नमस्कार हो इस मंत्र से अगर हम आत्मा से ऐसे भाव अगर बना ले तो निश्चित इस मंत्र का इतना प्रभाव आज भी इस कलयुग में हम देख सक ते।

उन्होने भजन की पंक्ति से भक्तो को समझाया कि संत का सम्मान होना चाहिए, देव सा व्यवहार होना चाहिए। जब तक भारत देश में संतो का सम्मान होता रहेगा तो देश का कोई बाल बाक्का भी नही कर सकता। संत के लिए जाति पाति धर्म सम्प्रदाय नही पुछा जाता संत का ज्ञान देखा जाता है। संत के पास सरस्वती हो तो संत महान होता गृहस्थ के पास लक्ष्मी हो तो वो महान गिना जाता है। इस लिए संत के ज्ञान को देखना चाहिए ओर अन्य देशो में भी भारत के संतो की महिमा गाई जाती है। क्योकि संत वहां पैदा नही होते इस लिए हमारा भारत विश्व गुरू नाम से जाना पहचाना जाता है। इस अवसर पर फलौदी के कुशल चंद गोलछा, दीप चंद सिंघी, नगराज सेठिया, हनुमान बाफना, निर्मल भूतोडिय़ा, देवेन्द्र कुंडलिया, विमल संचेती सहित अनेक भक्त उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here