सुजानगढ़ नगरपालिका का 1482. 64 लाख का बजट पारित

SHARE

 स्थनीय नगरपालिका मण्डल की बजट बैठक अध्यक्ष डा. विजयराज शर्मा की अध्यक्षता में सम्पन्न हंगामेदार बैठक में 1482. 64 लाख रूपये का बजट पारित किया गया। हंगामेदार शुरूआत से आगाज करने वाली बैठक में प्रतिपक्ष नेता रामनारायण प्रजापत ने निर्माण कार्यों में घोटाले का आरोप लगाते हुए स्टेशन रोड़ का उदाहरण देते हुए सदन को बताया कि सारड़ा औषधालय से शास्त्री प्याऊ तक की करीब 45 लाख की लागत से निर्मित ब्लॉक सड़क में 11.14  लाख रूपये का घोटाला हुआ है। नेता प्रतिपक्ष का कहना था कि सुजानगढ़ में टेण्डर अधिक दरों पर होते हैं और चूरू में कस्बे की उसी सड़क के लिए कम दरों पर टेण्डर होते हैं। प्रतिपक्ष ने जानना चाहा कि भ्रष्टाचार कहां हुआ? प्रतिपक्षी सदस्यों ने पत्रावली दिखाने और मामले की एसीबी से जांच करवाने की मांग की।

इस पर नगरपालिका अध्यक्ष डा. विजयराज शर्मा ने जेईएन से मुखतिब होते हुए कहा कि जेईएन साहब लोग आप से सन्तुष्ट नहीं है, एक काम के लिए तीन बार एस्टीमेट बनवाना पड़ता है। प्रतिपक्ष सदस्यों ने मांग की कि घोटाले की राशि की वसूली ठेकेदार व जेईएन से वसूली जाये। पार्षद सिकन्दर अली खिलजी ने कहा कि सुजानगढ़ नगरपालिका ने जो ट्रैक्टर 4 लाख 85 हजार में खरीदा है, वही ट्रैक्टर राजलदेसर नगरपालिका ने साढ़े चार लाख में खरीदा है। इस पर अधिशाषी अधिकारी रामचन्द्र कुल्हरी ने कहा कि ये बैठक के एजेण्डे में नहीं है, इसकी शिकायत करें और जांच करवाये। इस पर प्रतिपक्ष के सदस्य नाराज हो गये और सहवृत सदस्य अन्नाराम डाबरिया ने अध्यक्ष से मुखतिब होते हुए कहा कि एक प्रशासनिक अधिकारी जनप्रतिनिधियों को धमकी दे रहा है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। पवन चितलांगिया ने पानी की निकासी के लिए भुमि की अनुपलब्धता का मुद्दा उठाते हुए खानपुर के रास्ते नागौर जिला कलेक्टर से जमीन आवंटित करवाने की प्रक्रिया शुरू करने की मांग की।

जिस पर अधिशाषी अधिकारी रामचन्द्र कुल्हरी ने बताया कि प्रक्रिया शुरू की जा चूकी है और उपखण्ड अधिकारी के मार्फत जिला कलेक्टर महोदय से नागौर जिला कलेक्टर से गंदे पानी निकासी के लिए दो बीघा भुमि के  आवंटन की मांग की है।  पार्षद चिलांगिया ने कहा कि पानी निकासी एवं नालियों के अभाव में सड़के टूट रही है। पार्षद मोहन प्रजापत ने कहा कि केवल कुछ ही सदस्यों को सुना जा रहा है, जबकि महिला पार्षदों सहित अन्य से उनके वार्डोँ की समस्याओं के बारें में नहीं पूछा जा रहा है। सहवृत सदस्य ओमप्रकाश ऑपरेटर ने ठेके पर सफाई का काम करने वालों को मिलने वाली कम मजदूरी के मुद़दे को उठाते हुए सफाई कर्मियों की भर्ती करने की मांग की। जिस पर सदन में सर्वसम्मति से पचास सफाई कर्मियों की भर्ती का प्रस्ताव तैयार कर सरकार को भेजने की सहमती दी। ऑपरेटर ने सफाई जोन समाप्त करने की मांग करते हुए हरिजन बस्ती की दयनीय सड़कों व सफाई व्यवस्था का हाल बयां किया। बैठक में नालियों एवं सड़कों के रखरखाव के लिए प्रस्तावित 5 लाख के  बजट को बढ़ाकर 15 लाख किया गया।

पार्षद मोहन प्रजापत ने कहा कि शहर के विकास पर सब बोल रहे हैं, लेकिन कच्ची बस्तियों का भी सुधार हो। पार्षद मधु बागरेचा ने लुहारा गाडा में  चोरू नाई द्वारा सरकारी जमीन पर अतिक्रमण करने की जानकारी देते हुए बताया कि लम्बा समय बीत जाने के बाद भी नगरपालिका द्वारा उसे नकल नहीं दी गई है। बागरेचा ने अतिक्रमी पर कार्यवाही करने की मांग की। बैठक में बजट पेश करते समय पार्षद एड. सन्तोष सोनी ने जानना चाहा कि बजट में 10 महीने का ही ब्यौरा है, जबकि बजट पूरे साल का है। सोनी ने जानना चाहा कि आखिर ये दो महीने हिसाब कहां है। इस पर अधिशाषी अधिकारी रामचन्द्र कुल्हरी एवं लेखाकार सीताराम शर्मा ने जवाब देकर सन्तुष्ट करना चाहा, लेकिन वे सन्तुष्ट नहीं हो पाई। इस बैठक में उपाध्यक्ष सैयद गौरी, गणेश मण्डावरिया, बादल सोनीवाल, सन्तोष सोनी, मंजू सामरिया, श्याम प्रजापत, नवरत्न बागड़ा, रामज्योति सांखला, बीरबल प्रजापत, लीलाधर शर्मा, मनोज पारीक, विरेन्द्र प्रजापत, श्रीराम भामा, महावीर जांगीड़, मधु बागरेचा, अमित मारोठिया, बाबुलाल कुलदीप, पूसाराम मेघवाल, लालचन्द शर्मा, हाकमअली खां, महबूब व्यापारी सहित अनेक पार्षद उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here