हत्या में शामिल एक आरोपी सीकर से गिरफ्तार, अन्य की तलाश जारी

SHARE

शुक्रवार को हुए महेश माली हत्याकाण्ड का 48 घंटे में खुलासा करते हुए पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। मामले के बारे में जानकारी देते हुए थानाप्रभारी सी.आई जगदीश बोहरा ने जानकारी देते हुए बताया कि महेश पुत्र मांगीलाल माली की हत्या के आरोप में सदीक पुत्र लाल खां कायमखानी को सीकर से पकड़कर गिरफ्तार किया है। बोहरा ने बताया कि मुखबीर से सूचना मिलने पर एस.आई पुष्पेन्द्र झाझडिय़ा के नेतृत्व में एक विशेष टीम सीकर भेजी गई।

टीम ने सीकर के घंटाघर के पास से एक किराये के मकान से स्थानीय लोगों व सीकर पुलिस के सहयोग से आरोपी सदीक को पकड़कर पुछताछ के लिए सुजानगढ़ लेकर आये। पुछताछ के दौरान सदीक ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। बोहरा ने बताया कि गवाहों से पुछताछ, मृतक के परिजनों से प्राप्त सूचना तथा मृतक महेश एवं संदिग्ध लोगों और आरोपीगणों की मोबाईल कॉल डिटेल के विश्लेषण के बाद अनुसंधान के दौरान महेश की हत्या के मामले में चार जनों के शामिल होने के नाम सामने आये हैं।

जिनमें से मुकेश पुत्र जगदीश स्वामी तथा सदीक पुत्र लाल खां कायमखानी निवासीगण हनुमान धोरा सुजानगढ़ के रूप में पहचान हुई है। जबकि दो अन्य आरोपियों के नाम जांच प्रभावित नही हो इसके लिए गोपनीय रखे जा रहे हैं। चारों ही आरोपियों के विरूद्ध हत्या का प्रथम दृष्टया आरोप सिद्ध पाया गया है। बोहरा ने बताया कि एफआईआर में नामजद आरोपियों एवं हत्याकाण्ड में शामिल संदिग्धों के हत्या के षडय़न्त्र में शामिल होने की सम्भावना से इंकार नहीं किया जा सकता। हत्या के कारणों का अभी तक खुलासा नहीं हुआ है तथा गिरफ्तार आरोपी सदीक से पुछताछ जारी है।

हत्या के उद्देश्य से इटली से आया आरोपी मुकेश

सीआई जगदीश बोहरा ने बताया कि मुख्य आरोपी मुकेश स्वामी 6 मार्च को इटली से महेश की हत्या करने के उद्देश्य से ही आया था और सुजानगढ़ में अपनी उपस्थिति नहीं दर्शाने के उद्देश्य से सीकर में उसने तीन हजार रूपये महीने में एक मकान किराये पर लिया था। बोहरा ने बताया कि महेश हत्याकाण्ड का मुख्य आरोपी मुकेश स्वामी के विदेश भाग जाने की आशंका के चलते एलओसी जारी करवाई गई है। ताकि आरोपी मुकेश देश छोड़कर नहीं जा सके और किसी भी एयरपोर्ट पर जाये तो एयरपोर्ट पर ही पकड़ा जाये।

हत्या में प्रयुक्त हथियार बरामद

सीआई जगदीश बोहरा ने बताया कि महेश की हत्या में प्रयुक्त बेसबॉल बेट और गुप्ती व एक हॉकी स्टीक, जिसमें गुप्ती छिपाई हुई थी, को बरामद कर लिया गया है। गिरफ्तार आरोपी से पुछताछ के बाद संभावित एवं संदिग्ध स्थानों के लिए पुलिस की टीम भेजकर वारदात में शामिल अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किये जायेंगे।

गिरफ्तार आरोपी ने उगला हत्या का तरीका

पुलिस उपाधीक्षक नितेश आर्य व सीआई जगदीश बोहरा की उपस्थिति में आरोपी सदीक खां ने बताया कि मुकेश स्वामी ने उसे पैसों का लालच दिया था। जिस पर वह लाडनूं से बस द्वारा खानपुर आया और वहां से किसी की मोटरसाईकिल पर सवार होकर घटनास्थल पर पंहूचा। वहां पंहूचने के बाद मुकेश ने महेश को फोन कर डॉलर चेंज करने के बहाने से बुलवाया तथा महेश के पंहूचने के बाद वहां पर शराब पी गई तथा आरोपी सदीक ने बीयर पी। उसके बाद महेश जैसे ही खड़ा हुआ, पीछे से उसके सिर में बेसबॉल के बेट से वार किया गया। सिर में वार होने के बाद महेश ने भागते हुए कहा कि मिकू तुमने ऐसा क्यों किया। उसके बाद महेश को हॉकी से मारा तथा बाल पकड़ कर जमीन पर गिराया और मुकेश ने महेश के पेट में गुप्ती घुसेड़ दी। आरोपी सदीक ने बताया कि वह मुख्य आरोपी मुकेश के भाई राकेश का दोस्त है, इसलिए उसकी मुकेश से जान-पहचान है।

शोकसभा में संघर्ष समिति का गठन

कस्बे की सैनी धर्मशाला स्थित महात्मा ज्योतिबा फूले संस्थान कार्यालय में महेश भाटी हत्याकाण्ड को लेकर एक शोकसभा आयोजित की गई। जिसमें विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी एवं सदस्य तथा माली समाज के लोग उपस्थित थे। उपस्थितजनों ने खड़े होकर दो निट का मौन रखकर मृतक महेश माली की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की एवं घटना की घोर निन्दा की तथा सर्वसम्मति से निन्दा प्रस्ताव पारित किया। शोक सभा में डा. कन्हैयालाल मारोठिया, चम्पालाल तंवर, एड. सुरजमल यादव, गुलाबचन्द सिंगोदिया, मूलचन्द सांखला बाबूलाल कारोडिय़ा, विक्रम सिंह चोबदार, मूलचन्द सांखला, मनसुखलाल तंवर,आदूराम, राजकुमार तंवर, पार्षद अमित मारोठिया, कन्हैयालाल देवड़ा आदि ने अपने विचार व्यक्त करते हुए नृशंस हत्याकाण्ड की घोर निन्दा करते हुए दोषियों की गिरफ्तारी नहीं होने पर आन्दोलन करने, भुख हड़ताल करने, बाजार बंद करने, चक्का जाम करने एवं आत्मदाह करने की चेतावनी प्रशासन को दी है। इसके लिए चम्पालाल तंवर की अध्यक्षता में संघर्ष समिति का गठन किया गया। जिसमें मनसुखलाल तंवर, मूलचन्द सांखला, राजकुमार तंवर, डा. कन्हैयालाल मारोठिया, बाबूलाल कारोडिय़ा, पार्षद अमित मारोठिया, एड. सुरजल यादव, भंवरलाल टाक, गुलाबचन्द सिंगोदिया, सुखदेव सांखला को शामिल किया गया है।