स्वास्थ्य मंत्री ने सुजानगढ़ के राजकीय बगउिय़ा चिकित्सालय का निरीक्षण किया

SHARE

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री एमामुद्दीन अहमद खान उर्फ दुर्रूमियां ने सुजानगढ़ के राजकीय बगउिय़ा चिकित्सालय का निरीक्षण किया तथा मरीजों से बात कर अस्पताल के हालात जाने। चिकित्सा मंत्री ने मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण केन्द्र के निरीक्षण के दौरान कम दवाईयां पाये जाने को गम्भीरता से लेते हुए सीएमएचओ डा. अजय चौधरी से जवाब तलब किया।

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि चिकित्सालय में 350 दवाईयां उपलब्ध होनी चाहिए, जबकि 125 दवाईयां ही पूरी तरह से उपलब्ध नहीं है। उन्होने कहा कि रोजमर्रा समय में सबसे अधिक लिखी जाने वाली 50-60 दवाये पूरी मात्रा में उपलब्ध होनी चाहिए। स्थानीय विधायक मा. भंवरलाल मेघवाल ने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि पिछले सीएमएचओ के समय से ही यहां पर 125 दवाईयां आ रही है।

चिकित्सालय के बाद चिकित्सालय परिसर में आयोजित स्वागत समारोह में चिकित्सा मंत्री दुर्रूमियां का विधायक मा. भंवरलाल मेघवाल, पूर्व प्रधान पूसाराम गोदारा, पीएमओ डा. शेरसिंह राठौड़, डा. सरोज कुमार छाबड़ा ने माला पहनाकर व शॉल ओढ़ाकर तथा साफा बांधकर स्वागत किया। विधायक मा. भंवरलाल मेघवाल ने अपने उद्बोधन में छापर में सीएचसी खोलने तथा सुजानगढ़ के बगडिय़ा चिकित्सालय में 100 बैड के चिकित्सालय के अनुरूप सुविधाएं उपलब्ध करवाने तथा चिकित्सक एवं नर्सिंग स्टाफ लगाने की मांग की। मेघवाल ने जोर देकर चिकित्सालय में महिला चिकित्सक के रूप में यहां पूर्व में कार्य कर चूकी महिला चिकित्सक डा. सुनीता जैन को लगाने की मांग की।

पूर्व प्रधान व जिप सदस्य पूसाराम गोदारा ने महिला चिकित्सक लगाने के साथ-साथ सोनोग्राफी मशीन व उसके लिए ऑपरेटर की नियुक्त करने तथा दवा काऊण्टरों पर नहीं मिलने वाली दवाईयां खरीदने के लिए बजट देने, सब सेन्टरों पर दवाईयां उपलब्ध करवाने और प्रत्येक सब सेन्टर पर दो एएनएम या एक एएनएम व एक कम्पाऊण्डर को नियुक्त करने की मांग की। गोदारा ने बगडिय़ा चिकित्सालय में रिक्त पदों पर चिकित्सकों को लगाने की मांग भी की। इदरीश गौरी ने भौजलाई चौराहा, नलिया बास, माण्डेता, चांद बास में एक चिकित्सक व दो नर्सों को लगाने की मांग की।

जिससे छोटी-मोटी बिमारियों में लोगों को लम्बी दूरी तय कर चिकित्सालय आना नहीं पड़े। सीएमएचओ डा. अजय चौधरी ने स्वागत भाषण देते हुए राज्य सरकार की नि:शुल्क दवा योजना एवं जननी शिशु सुरक्षा योजना को मील का पत्थर बताया। स्वागत समारोह में उपस्थित जनों को सम्बोधित करते हुए चिकित्सा मंत्री ए ए खान ने कहा कि नि:शुल्क दवा योजना शुरू करने वाला राजस्थान देश का पहला राज्य नहीं है, लेकिन साढ़े चार सौ दवाईयां नि:शुल्क देने वाला देश का पहला प्रदेश है। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि सब सेन्टर पर 15, पीएचसी पर 250, सीएचसी पर 350 और मेडीकल कॉलेज में 450 प्रकार की दवाईयों का नि:शुल्क वितरण किया जा रहा है।

चिकित्सालय निरीक्षण के दौरान मिली शिकायतों को दूर करने का आश्वासन देते हुए दुर्रूमियां ने स्वीकार किया कि राज्य सरकार जनकल्याणकारी योजनाओं का समुचित प्रचार नहीं कर पाई, जिससे इनका आम आदमी को पुरा लाभ नहीं मिल पाया। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि 108 एम्बूलैंस का सड़क हादसों में सर्वाधिक लाभ मिला है और कईं जिन्दगियों को बचाया जा सका है तथा 108 में एक हजार से अधिक प्रसव हुए है, जिनमें जच्चा-बच्चा दोनो पूर्ण सुरक्षित रहे हैं। चिकित्सा मंत्री दुर्रूमियां ने सालासर के चिकित्सालय के लिए 10 लाख रूपये के उपकरणों एवं सुजानगढ़ उपखण्ड के चिकित्सालयों के लिए दो जनरेटरों व बगडिय़ा चिकित्सालय के लिए एक सोनोग्राफी मशीन भिजवाने की घोषणा की।

कार्यक्रम में बगडिय़ा परिवार के प्रतिनिधि प्रदीप तोदी व हरिप्रसाद तोदी ने प्रतीक चिन्ह प्रदान कर चिकित्सा मंत्री का अभिनन्दन किया। समारोह में कांग्रेस के जिला अध्यक्ष भंवरलाल पुजारी, शहर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप तोदी, नगर अध्यक्ष रामवतार मंगलहारा, राधेश्याम अग्रवाल, पूर्व कृषि मण्डी अध्यक्ष सुरजाराम ढ़ाका, तिलोकसिंह राव, जिप सदस्य लक्ष्मीनारायण स्वामी आदि मंचासीन थे। कार्यक्रम में पार्षद मधु बागरेचा, बाबूलाल कुलदीप, महिला कांग्रेस की प्रदेश सचिव उषा बगड़ा, युवा नेता मदन सोनी, संजय ओझा, पार्षद महबूब व्यापारी, हाजी शम्सूद्दीन स्नेही, हाजी गुलाम सदीक छींपा, नेमीचन्द गुलेरिया, लालचन्द बेदी, प्रेम जोशी, मांगीलाल मेघवाल, रामपाल यादव, विद्याप्रकाश बागरेचा, बजरंग सैन, अयूब नसवाण सहित अनेक कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे। समारोह में उपखण्ड अधिकारी चिमनलाल मीणा, तहसीलदार महेन्द्रसिंह चौधरी, विकास अधिकारी विक्रमसिंह राठौड़, ब्लॉक सीएमएचओ डा. महेश वर्मा भी उपस्थित थे। संचालन घनश्यामनाथ कच्छावा ने किया।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY