शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश महत्वपूर्ण – डाबरिया

SHARE

स्थानीय बुनकर बस्ती स्थित श्री गोपाल कृष्ण शास्त्री आदर्श विद्या मन्दिर में कस्बे के संस्कार केन्द्रों का वार्षिकोत्सव मनाया गया। कार्यक्रम अध्यक्ष रामेश्वर भाटी, मुख्य वक्ता व विद्या भारती के संगठन मंत्री शिवप्रसाद शर्मा, मुख्य अतिथि अति. ब्लॉक शिक्षा अधिकारी सुरजाराम डाबरिया, विशिष्ट अतिथि जयपुर प्रान्त संस्कार केन्द्र प्रमुख बाबूलाल शर्मा व कार्यक्रम संयोजक एवं प्रधानाचार्य पवन पारीक ने दीप प्रज्जवलन कर किया।

सलोचना एण्ड पार्टी की सरस्वती वंदना से प्रारम्भ हुए कार्यक्रम में हेतराज एण्ड पार्टी ने समूह गीत, कमल एण्ड पार्टी ने संगीत योग, अंकिता व मोनिका ने युगल नृत्य, हेतराज एण्ड पार्टी ने अग्नि चक्र, विक्रम एण्ड पार्टी ने आसन, पार्वती एण्ड पार्टी ने नृत्य गीत, शिवानी बाल्मिकी व खेमा बाल्मिकी ने एकल गीत, सम्पत एण्ड पार्टी ने सामुहिक नृत्य, संजू एण्ड पार्टी ने सामूहिक गीत की प्रस्तुति दी तथ मोनिका एण्ड पार्टी ने प्रेरणास्पद नाटक का मंचन किया और महिमा मेहरड़ा ने कविता वाचन किया। कार्यक्रम का संयोजन करते हुए प्रधानाचार्य पवन पारीक ने अतिथियों का परिचय दिया। विद्यालय के व्यवस्थापक सांवरमल भोजक ने संस्कार केन्द्र प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता शिवप्रसाद शर्मा ने कहा कि समाज व राष्ट्र की तरक्की तभी सम्भव है, जब हम छोटे से छोटे वर्ग को साथ लेकर चलेंगे। पीढिय़ों से उपेक्षित व कमजोर को प्रेम, सहानुभुति सहयोग व मैत्रीपूर्ण व्यवाहर से उनमें आत्मविश्वास जगाना होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे रामेश्वर भाटी ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ संस्कार केन्द्र भी मानव निर्माण की कार्यशाला है। मुख्य अतिथि सुरजाराम डाबरिया ने कहा कि पिछड़े क्षेत्रों में संस्कार केन्द्रों का संचालन अद्भुत है। डाबरिया ने संस्कार केन्द्रों से अधिकाधिक बच्चों को जोडऩे पर बल देते हुए कहा कि बच्चे औपचारिक शिक्षा तो विद्यालयों में ग्रहण कर सकते हैं, लेकिन संस्कारों का समावेश भी महत्वपूर्ण है। आदर्श शिक्षण संस्थान चूरू के कोषाध्यक्ष एड. श्यामनारायण राठी ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन रघुवीर पारीक ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here