समाजभुषण मांगीलाल सेठिया समाज सेवा सम्मान से सम्मानित

SHARE

स्थानीय तेरापंथ सभा भवन में श्री जैन श्वेताम्बर तेरापंथ सभा, तेरापंथ महिला मण्डल एवं तेरापंथ युवक परिषद के संयुक्त तत्वाधान में  पृथ्वीराज बाफना के सौजन्य से आचार्य महाश्रमण के शिष्य शासन गौरव मुनिश्री धनंजय कुमार व शासन गौरव साध्वी राजीमती जी के सानिध्य एवं विधायक मा. भंवरलाल मेघवाल के मुख्य आतिथ्य में आयोजित समाज भूषण मांगीलाल सेठिया के सम्मान समारोह की अध्यक्षता जैन विश्वभारती लाडनूं के कुलपति एवं अध्यक्ष सुरेन्द्र कुमार चौरडिय़ा ने की तथा विशिष्ट अतिथि पूर्व प्रधान पूसाराम गोदारा, उपखण्ड अधिकारी चिमनलाल मीणा, नगरपालिका अध्यक्ष डा. विजयराज शर्मा व लाडनूं नगरपालिका अध्यक्ष बच्छराज नाहटा विशिष्ट अतिथि थे।

सम्मान समारोह में उपस्थितजनों को सम्बोधित पूर्व शिक्षा मंत्री एवं स्थानीय विधायक मा. भंवरलाल मेघवाल ने कहा की मांगीलाल सेठिया ने स्व. वृद्धिचन्द बागरेचा के साथ मिलकर कस्बे में ओसवाल उच्च माध्यमिक विद्यालय एवं गांधी बालिका विद्यालय की स्थापना कर उस समय में शिक्षा की अलख जगाई, जब स्कुलें कम ही होती थी। मेघवाल ने कहा की समाज गौरव या समाज भुषण का सम्मान अपने व्यक्तित्व एवं व्यहार में किसी प्रकार की कमी नहीं रखने वाले बिरले महापुरूषों को ही मिलता है। मेघवाल ने कहा की समाज में पैसे की कमी नहीं है, सदुपयोग होने पर प्रत्येक सक्षम व्यक्ति सही समय पर सही कार्य के लिए खर्च करने के लिए तैयार रहता है।

शासन गौरव मुनिश्री धनंजय कुमार ने अपने आर्शीवचन में कहा की प्रत्येक व्यक्ति के कार्य, जीवन शैली, व्यक्तित्व, कृतित्व एवं साधना बोलती है। मुनिश्री ने कहा की आध्यातम और राजनीति दो अलग-अलग धाराओं के मध्य रास्ता निकालकर मांगीलाल जी सेठिया ने दोनो में समन्वय बनाते हुए समाजहित में कार्य किये हैं। शासन गौरव साध्वी राजीमती जी ने कहा की अपने सीधे आचरण से साधु बने बिना ही स्वर्ग की प्राप्ति करने का यह गुण ही इंसान को अजातशत्रु बना देता है। साध्वी जी ने समाज के उत्थान एवं विकास के लिए अनेक समाजभुषण होने की आवश्यकता जताई।

साध्वी जी ने कहा की समाजभुषण बनने के लिए कठिन तपस्या करनी पड़ती है। समाज सेवा सम्मान से सम्मानित होने वाले समाज भुषण मांगीलाल सेठिया ने सम्मानित करने के लिए समाज के प्रति अपनी कृऊतज्ञता व्यक्त करते हुए कहा की यह सम्मान मेरा नहीं दिल्लीवासियों का सम्मान है। अपने ऊपर अपनी माताजी के व्यक्तित्व का असर बताते हुए सेठिया ने कहा की काम के प्रति सचेत रहने के कारण ही मेरे सभी से सम्पर्क हो सके और मुझे सौंपे गये सभी कार्य सभी के सहयोग से पूर्णता को प्राप्त होते गये। उपखण्ड अधिकारी चिमनलाल मीणा एवं नगरपलिका अध्यक्ष डा. विजयराज शर्मा ने समाज भुषण मांगीलाल सेठिया को आगामी 26 जनवरी को राष्ट्रीय पर्व केतहत लोहिया स्टेडियम में होने वाले उपखण्डस्तरीय कार्यक्रम में सुजानगढ़ गौरव सम्मान से नवाजने की घोषणा की।

कार्यक्रम को जिप सदस्य व पूर्व प्रधान पूसाराम गोदारा, तेयुप अध्यक्ष संजय बोथरा, पुष्पा बोकडिय़ा, श्रद्धा कुण्डलिया तथा मांगीलाल सेठिया की पुत्री कमलादेवी ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जैन विश्वभारती लाडनूं के कुलपति एवं अध्यक्ष सुरेन्द्र कुमार चौरडिय़ा ने अध्यक्षीय उद्बोधन दिया। महिला मण्डल की राजकुमारी भुतोडिय़ा ने स्वागत भाषण दिया। अतिथियों का स्वागत रणजीत बागरेचा, विजयराज सिंघी, भागचन्द बरडिय़ा, तनसुख बैद, विजयसिंह बोरड़, सुमेरमल सुराणा, गोविन्द बाफना आसकरण डोसी ने साहित्य व प्रतीक चिन्ह भेंटकर स्वागत किया। कार्यक्रम में ताराचन्द रामपुरिया, बजरंगलाल बोकडिय़ा, सभा अध्यक्ष पृथ्वीराज बाफना, धन्नीदेवी लोढ़ा, पुन्नीदेवी भुतोडिय़ा तथा स्व. प्रतापसिंह सिंघी के मरणोपरांत उनकी धर्मपत्नि कमला सिंघी को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर संजय ओझा, सहवृत सदस्य लालचन्द शर्मा, राधेश्याम अग्रवाल, गजानन्द जांगीड़, पांचीराम बैंगानी, माणकचन्द सराफ, देवेन्द्र कुण्डलिया, कन्हैयालाल तुनवाल, बाबूलाल फूलफगर, अजय चौरडिय़ा, आई. सी. जैन, दामोदर प्रसाद मुंधड़ा, शंकर स्वामी, हाजी शम्सूद्दीन स्नेही, एड. निरंजन सोनी, सुश्री कमला डोसी, हाजी गुलाम सदीक छींपा, मो. इदरीश गौरी, असलम मौलानी, विजय गोयल, रेवन्त टेलर, अन्नाराम डाबरिया, संजय भुतोडिय़ा, प्रेम जोशी सहित अनेक गणमान्यजन उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन वन्दना कुण्डलिया ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here