श्रीमद्भागवत कथा के तीसरे दिन कथा वाचक

SHARE

कस्बे के कनोई बिल्डिंग के सामने  झांबररमल राजोतिया की सौजन्य से चल रही श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के तीसरे दिन कथा वाचक देवकीनन्दन दाधीच ने सती के चरित्र पर प्रकाश डालते हुए धु्रव का बड़ा ही सुन्दर चरित्र सुनाया। देवकी ने कहा की संसार एक बंजारो का घर है तथा शरीर कुम्हार का घड़ा है जो कभी भी फूट सकता है।

अत: जीव को पूर्ण निष्ठा के साथ संतो की सेवा करते हुए प्रभू के चरणो में मन को समर्पित करना चाहिए। उन्होने नरको का बड़ा ही मार्मिक वर्णन करते हुए कहा की जीव को पाप की श्रेणी के अनुसार नर्क मिलता है तथा सजा मिलती है। जीव को नर्क से बचने के लिए प्रभू का नाम स्मरण कदापि नही छोडऩा चाहिए। जैसा की अजामिल ने एक बार नारायण का नाम लेकर परम प्राप्त कर लिया।

शास्त्री जी ने वृत्रासुर चरित्र भी बड़ा मार्मिक सुनाया। प्रहलाद चरित्र वर्ण, धर्म, आश्रम, गजेन्द्र मोक्ष, समुद्र मंथन से निकले अमृत कलश की कथा कहते हुए तृतीय दिवस की कथा का विश्राम हुआ। आरती से पहले यजमान झाबरमल राजोतिया कथा वाचक देवकीनन्दन शास्त्री का माला पहनाकर स्वागत किया।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY