दूल्हा मंडप छोड़ भागा

SHARE

वरमाला से पहले स्टेज पर जायलो गाड़ी और दिल्ली में फ्लैट की  मांग करना एक  दुल्हे और उसके  परिवार को  महंगा पड़ गया। हुआ युं कि कस्बे के हुलासचन्द दिनोदिया कि पौत्री विजय कुमार कि पुत्री की शादी रानौली जिला सीकर तथा हाल दिल्ली निवासी बजरंगलाल ढ़ोर के पुत्र जुगलकिशोर के साथ तय हुई थी। दूल्हन ब्याहने के लिए दुल्हा दिल्ली से बारात लेकर सुजानगढ़ पंहूच गया। बारात को स्टेशन रोड़ स्थित भवन में ठहराया गया और बारात की खातिरदारी की  गई। जब बारात ढ़ुकाव को लिए दुल्हन के दरवाजे पंहूची तो वहां पर दरवाजे पर होने वाली सभी रस्मों को पूरा करने के बाद स्टेज पर वरमाला से पहले दूल्हे ने एक जायलो कार और दिल्ली में फ्लैट देने की मांग कर दी तथा मांग की पूर्ति नहीं होने पर दुल्हा अपना साफा उतार कर स्टेज छोडक़र भाग गया।

दूल्हे के भागने के बाद उसके परिवारजन और बाराती भी सिर पर पैर रखकर भागने लगे। जिसके कारण विवाह स्थल पर अफरा-तफरी का माहौल हो गया और दुल्हन के परिवारजन अचानक घटित हुए इस घटना क्ररम से सक्ते में आ गये। इसके बाद वधु के परिवारजनों और मौहल्लेवासियों ने उनका पीछा किया तथा पुलिस को घटना क्रम कि जानकारी दी। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने मामले की गम्भीरता को समझते हुए सभी नजदीकी पुलिस थानों में इतला देकर नाकाबंदी करवाई और दुल्हे और उसको परिवारजनों तथा बारातियों का पीछा करना शुरू कर दिया। दुल्हन को परिवारजनों और पुलिस द्वारा पीछा करने के बाद दुल्हे जुगलकिशोर को किसान छात्रावास से पहले और उसके पिता बजरंगलाल को  वेंकटेश्वर मन्दिर के पास से पकड़ कर थाने लाया गया। इसके बाद गुरूवार सुबह दुल्हन सोनू कि शादी पडि़हारा निवासी एक युवक के साथ सम्पन्न कर वर-वधु को विदा किया गया, जब कि दिल्ली से आई बारात को बिना दुल्हन के बैरंग लौटना पड़ा। वहीं दूसरी ओर वधु के दादा हुलासचन्द ने जुगलकिशोर और उसके पिता बजरंगलाल सहित चार जनों के खिलाफ स्थानीय पुलिस थाने में दहेज कि मांग करने का मामला दर्ज करवाया है।

जिस पर पुलिस ने कार्यवाही करते हुए जुगलकिशोर और बजरंगलाल को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया, जहां न्यायाधीश ने दहेज के लोभी पिता-पुत्र को दो दिन के पुलिस रिमाण्ड पर दिये जाने के आदेश दिये। हुलासचन्द ने बताया की सगाई के समय सोने की अंगुठी, सोने की चैन और एक लाख रूपये मय नारियल लडक़े के हाथ में दिये तथा उसके पिता बजरंगलाल को  सोने की अंगुठी, एक कम्बल और पांच सौ रूपये नगद दिये। पुलिस बारात लेकर आई बस को जब्त कर लिया, जबकि बारात में आई चार-पांच गाडिय़ों में दुल्हे के भाई-बहन और अन्य परिवारजन बैठकर मौके से भाग गये। सुजानगढ़ में पुरे दिन इसी बात पर बाजार गर्म रहा और पुरे सुजानगढ़ के लोगो ने इसकी निंदा कि ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY