वात्सल्य का अनन्त गहरा सागर-माँ

SHARE

सुजानगढ.: आज मातृ दिवस है जो अंग्रेज देशों में मर्दस डे के रूप में मनाया जाता है। हम हिन्दुस्तानियेां का मानना है कि माँ का दर्जा भगवान से ऊँचा है और माँ के आदर सम्मान के लिये वर्ष का एक दिन नहीं पूरा जीवन कम पङता है। माँ दुनिया को ईश्वर द्वारा प्रदत सबसे अनमोल उपहार है। माँ के आँचल में पूरी श्रृष्टी समाहित है।
ममता व वात्सल्य का अनन्त गहरा सागर है माँ। माँ अपने जीवन की अंतिम श्वास तक अपनी पर अपना सब कुछ न्यौछावर कर देती है। इस धरती पर एक मात्र नि:स्वार्थ रिश्ता माँ का है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY