संसार मोह माया का सागर है: व्यास आसाराम जी

SHARE

सुजानगढ.: नयाबास सीताराम जी के मन्दिर में चल रही भागवत कथा में आज दूसरे दिन कथा व्यास आसाराम जी ने देवहुती कर्षम कपिल गीता के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि संसार मोह माया का सागर है। इससे भागवत कथा एवं भगवान की भक्ती ही एक मात्र जीव का साथी है।
नवदा भक्ती का अर्थ है सदैव सम और प्रसन्न रहना। महाराज को यजमान मदनलाल इंनाणियाँ, अशोक कुमार, मुकुल, राजकुमार, नवरत्न सुठवाल ने माल्यार्पण किया।
आज पूर्व खनिज मंत्री खेमाराम मेघवाल, रामकुमार दाधीच, बुद्धीप्रकाश सोनी, वैध भंवरलाल इंनाणियाँ सहित अनेक गणमान्य लोगों ने कथा श्रवण
किया।

Source : Thar TV

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY